Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY) In Hindi – परंपरागत कृषि विकास योजना

Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY)

Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY) In Hindi के इस लेख मे आपको Paramparagat Krishi Vikas Yojana Guidelines, Paramparagat Krishi Vikas Yojana Launch Date, Paramparagat Krishi Vikas Yojana PDF के साथ Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY) 2018 की जानकारी Paramparagat Krishi Vikas Yojana Details के साथ दी गई है। इसके साथ ही आपको इस लेख मे Pradhan Mantri Schemes की जानकारी भी दी गई है। PKVY 2018 की विस्तार पूर्वक जानकारी के लिए लेख को पूरा पढ़े।pkvy

Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY) In Hindi

हमारा भारत देश कृषि प्रधान देश है। हमारे देश मे कृषि का व्याप पहेले से ही ज्यादा रहा है। देश मे रचने वाली प्रत्येक सरकार हर साल कृषि के लिए कोई न कोई योजना का निर्माण करती है। निर्माण की गई योजनाओ का लक्ष्य कृषि के स्तर मे सुधार लाना होता है। आज के इस युग मे तकनीक और मशीनों की सुविधा के कारण कृषि आसान तो हो गई है, लेकिन कभी किसिस ने यह सोचा की कृषि जहा से जुड़ी है वह जमीन की हालत क्या है? यहा हम इस योजना के माध्यम से यही बात करने का प्रयास करने वाले है। अगर हम कृषि की बात करते है तो उसमे जमीन, किसान और बाजार तीनों का मिलाप होता है। किसान जो खेती करता है उसके साथ उसकी जमीन जुड़ी होती है, खेती से जो पैदा होता है उसके साथ बाजार जुड़ा होता है।

यदि कृषि की जमीन या कृषि करने वाले किसान को कुछ हो जाए तो इसका क्या परिणाम होगा? आम आदमी की सोच के आधार पर इसकी असर खेत उपज पर पड़ेगी। तो हमे या सरकार को इसके लिए क्या करना चाहिए। तो सरकार ने इसकी पहल के रूप एक योजना का आरंभ किया है, जिसका नाम है Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY)। इस योजना को आसान शब्दो मे समजाए तो इसका आशय किसानो का स्वास्थ्य और जमीन का स्वास्थ्य सुधारना है। आज के इस आधुनिक युग मे खेती मे रसायण युक्त दवाओ का प्रयोग ज्यादा हो गया है, इसी कारण खेती मे पेदा होने वाली उपज रसायन युक्त होती है। रसायन के प्रयोग के कारण किसान का स्वास्थ्य बिगड़ता है, साथ ही रसायन के प्रयोग के कारण कृषि मे पेदा होने वाली उपज हर एक के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती है।

Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY) के अंतर्गत सरकार ध्वारा जैविक खेती को प्रोत्साहन दिया जाएगा। इस योजना का आशय किसानो का स्वास्थ्य और जमीन की गुणवातता को कायम रखना होगा। इस योजना के तहत सरकार जैविक खेती को बढ़ावा देते हुये किसानो को प्रशिक्षित और सहायता करेगी। इस योजना के माध्यम से सरकार ध्वारा किसानो को जैविक खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। सरकार किसानो को इस योजना के तहत परंपरागत तरीको से कृषि करने के लिए प्रोत्साहित करेगी, जिससे उन्हे रसायन मुक्त खेत उपज मिले और साथ ही जमीन की गुणवत्ता को भी सुधारा जा सके।pkvy

Paramparagat Krishi Vikas Yojana Launch Date 10-12-2015

  • PKVY योजना का आरंभ NDA सरकार के ध्वारा साल 2015 मे किया गया था।
  • जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए सरकार ध्वारा इस योजना का निर्माण किया गया था।

Paramparagat Krishi Vikas Yojana Detailspkvy

  • Paramparagat Krishi Vikas Yojana प्रमुख योजना National Mission For Sustainable Agriculture (NMSA) के प्रमुख परियोजना के Soil Health Management(SHM) का एक विस्तृत घटक है।
  • PKVY के तहत कार्बनिक गांव को समूह दृष्टिकोण और PGS प्रमाणीकरण द्वारा जैविक खेती को अपनाने के माध्यम से जैविक खेती को बढ़ावा दिया जाता है।
  • कृषि सहकारिता और किसान कल्याण विभाग (Department of Agriculture, Cooperation and Farmers Welfare), कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय (Ministry of Agriculture and Farmers Welfare) इस योजना की प्रमुख एजेंसी है।
  • इस योजान के तहत प्रमाणित जैविक खेती के माध्यम से वाणिज्यिक जैविक उत्पादन का प्रचार किया जाएगा।
  • इस योजना के कारण उपज कीटनाशक अवशेष मुक्त होगा और उपभोक्ता के स्वास्थ्य में सुधार करने में योगदान देगा।pkvy
  • इस योजना का लक्ष्य किसानों की आमदनी बढ़ाएगा और व्यापारियों के लिए एक संभावित बाजार बनाएगा।
  • यह किसानों को निवेश उत्पादन के लिए प्राकृतिक संसाधन भरती के लिए प्रेरित करेगा।

Paramparagat Krishi Vikas Yojana Guidelines

  • Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY) के तहत किसानों के समूह जैविक खेती करने के लिए प्रेरित होंगे।
  • 50 या अधिक किसान योजना के तहत जैविक खेती करने के लिए 50 एकर जमीन वाले समूह का निर्माण करेंगे।
  • इस तरह जैविक खेती के तहत 5.0 लाख एकर क्षेत्र को कवर करने वाले 3 वर्षों के दौरान 10,000 समूह बनाए जाएंगे
  • प्रमाणन पर व्यय के लिए किसानों पर कोई खर्च नहीं होगा।
  • बीज के लिए, फसलों की कटाई और बाजार में उपज परिवहन के लिए प्रत्येक किसान को 3 साल में 20,000 रुपये प्रति एकर प्रदान किया जाएगा।
  • पारंपरिक संसाधनों का उपयोग करके जैविक खेती को बढ़ावा दिया जाएगा और जैविक उत्पादों को बाजार से जोड़ा जाएगा
  • यह किसानों को शामिल करके जैविक उत्पादन के घरेलू उत्पादन और प्रमाणीकरण में वृद्धि करेगा।

Paramparagat Krishi Vikas Yojana PDF 2018

इस योजना की PDF को DOWNLOAD करने के लिए क्लिक करे।

Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2018 (PKVY)

pkvy

1. समूह दृष्टिकोण के माध्यम से भागीदारी गारंटी प्रणाली (PGS) प्रमाणन को अपनाना

PGS प्रमाणन के लिए 50 एकर में समूह बनाने के लिए किसानों / स्थानीय लोगों को गतिमान करना।

  • जैविक खेती समूह बनाने के लिए लक्षित क्षेत्रों में किसानों की बैठकों और चर्चाओं का आयोजन (200 rs / किसान)pkvy
  • जैविक खेती के खेतों में समूह के सदस्य को अनावरण का दौरा ( 200 rs / किसान)
    समूह का गठन, PGS को किसान प्रतिज्ञा और समूह से लीड संसाधन व्यक्ति (LRP) की पहचान।
  • जैविक खेती पर समूह सदस्यों का प्रशिक्षण (प्रशिक्षण के लिए 20000 रुपये \ 3 ट्रेनिंग)pkvy

PGS प्रमाणन और गुणवत्ता नियंत्रण।

  • 2 दिनों में PGS प्रमाणन पर प्रशिक्षण (200 रु \ LRP)
  • प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण (20) लीड संसाधन व्यक्ति (LRP) (250 रु \ दिन) समूह को 3 दिनों के लिए।
  • किसान के ऑनलाइन पंजीकरण (100 रुपये प्रति सदस्य समूह x 50)
  • मृदा नमूना संग्रह और परीक्षण (Soil sample collection and testing) (21 नमूने / वर्ष / समूह) (तीन साल के लिए प्रति नमूना 190 रु)
  • PGS प्रमाणीकरण के लिए जैविक तरीकों में रूपांतरण की प्रक्रिया दस्तावेज, प्रयुक्त इनपुट, क्रॉपिंग पैटर्न, जैविक खाद और उर्वरक का उपयोग आदि। (100 रुपये प्रति सदस्य x 50 के लिए)
  • समूह सदस्य के क्षेत्रफल का निरीक्षण (400 रु / निरीक्षण x 3) (3 निरीक्षण प्रति वर्ष प्रति समूह किया जाएगा)
  • NABL में नमूने के अवशेष विश्लेषण (प्रति समूह प्रति वर्ष 8 नमूने) (10, 000 रु / नमूना)
  • प्रमाणन शुल्क
  • प्रमाणीकरण के लिए प्रशासनिक खर्च

2. समूह दृष्टिकोण के माध्यम से खाद प्रबंधन और जैविक नाइट्रोजन कटाई के लिए जैविक गांव को गोद लेना

एक समूह के लिए जैविक खेती के लिए कार्य योजना

  • भूमि का जैविक का रूपांतरण (1000 रु / एकर x 50 )
  • फसल प्रणाली का परिचय; जैविक बीज खरीद या जैविक नर्सरी जमीन बढ़ाना। (500 / एकर / वर्ष x 50 एकर)
  • पारंपरिक जैविक इनपुट उत्पादन इकाइयां जैसे पंचगव्य, बीजमरुथ और जीवनरामथ इत्यादि। (1500 रु / यूनिट / एकर x 50 एकर)
  • जैविक नाइट्रोजन हार्वेस्ट रोपण। (ग्लिरिसिडिया, सेस्बानिया, आदि) (2000 रु / एकर x 50 एकर)
  • वनस्पति निष्कर्ष उत्पादन इकाइयों (नीम केक, नीम का तेल) (1000 रु / इकाई / एकर x 50 एकर)

एकीकृत खाद प्रबंधनpkvy

  • तरल जैव उर्वरक कंसोर्टिया (नाइट्रोजन फिक्सिंग / फॉस्फेट सोल्यूबिलाइजिंग / पोटेशियम जैव उर्वरक को संगठित करना) (500 रु / एकर x 50)
  • तरल बायोपेस्टाइड्स (ट्रायकोडर्मा वायरिडे, स्यूडोमोनास फ्लोरोसेंस, मेटार्ज़िज़ियम, बेविओरी बासियाना, पैसिलोमाइसेस, वर्टिसिलियू एम) (500 रु/ एकर x 50)
  • नीम केक / नीम तेल (500 रु/ एकर x 50)
  • फॉस्फेट रिच कार्बनिक खनिज / ज़ीमे ग्रैन्यूल (1000 रु/ एकर x 50)
  • वर्मीकंपोस्ट (आकार 7’x3’x1 ‘) (500 रु/ एकर x 50)

कस्टम भर्ती केंद्र (CHC) शुल्क

  • कृषि उपकरण (SMAM दिशानिर्देशों के अनुसार) – पावर टिलर, कोनो वीडर, धान थ्रेसर, फ्यूरो ओपनर, स्प्रेयर, रोज़ कैन, टॉप पैन बैलेंस
  • बागवानी के लिए चलने वाली सुरंगें (MIDH के दिशानिर्देशों के अनुसार)
  • पशु खाद के लिए मवेशी शेड / कुक्कुट / सुअर (GOKHUL योजना के दिशानिर्देशों के अनुसार)

समूह के जैविक उत्पादों की पैकिंग, लेबलिंग और ब्रांडिंग

  • PGS लोगो + होलोग्राम प्रिंटिंग के साथ पैकिंग सामग्री (2500 रु / एकर x 50)
  • जैविक उपज का परिवहन (चार पहिया, 1.5 टन भार क्षमता) (120000 रु अधिकतम 1 समूह के लिए सहायता)
  • जैविक मेले (प्रति समूह 36330 रु अधिकतम सहायता दी जाएगी)

दी गई सम्पूर्ण जानकारी की PDF File को DOWNLOAD करे।

प्यारे पाठक आपको Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY) In Hindi लेख मे हमने इस योजना की सारी जानकारी देने का प्रयत्न किया है। आपको इस योजना से जुड़ी या अन्य किसी सरकारी योजना की जानकारी चाहिए तो आप हमे COMMENT करके संपर्क कर सकते है।

Pradhan Mantri Schemes

Pradhan Mantri Yojanas पढ़ने के लिए योजना के नाम पर Click करे

  1. सुकन्या समृद्धि योजना
  2. मातृ वंदना योजना
  3. अमृत योजना
  4. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
  5. गोबर धन योजना
  6. मुद्रा लोन योजना
  7. राष्ट्रीय पोषण मिशन
  8. फसल बीमा योजना
  9. आयुष्मान भारत योजना
  10. अमृतम योजना
  11. उज्ज्वला योजना
  12. भाग्य लक्ष्मी योजना
  13. लाड़ली लक्ष्मी योजना
  14. सौर सुजला योजना
  15. प्रधानमंत्री युवा योजना
  16. ग्राम ज्योति योजना
  17. कौशल विकास योजना
  18. जन-धन योजना
  19. सांसद आदर्श ग्राम योजना
  20. खनिज क्षेत्र कल्याण योजना
  21. अटल पेंशन योजना
  22. जन औषधि योजना
  23. रोजगार प्रोत्साहन योजना
  24. जीवन ज्योति बीमा योजना
  25. आवास योजना
  26. कृषि सिंचाई योजना
  27. मेक इन इंडिया
  28. ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान
  29. सीखो ओर कमाओ योजना
  30. National Aapprenticeship Promotion Scheme
  31. स्टैंड अप इंडिया
  32. वय वंदना योजना
  33. स्वच्छ भारत अभियान
  34. स्कूल नर्सरी योजना
  35. स्मार्ट सिटि योजना
  36. पहल योजना
  37. पढ़ो परदेश योजना
  38. नई मंज़िल योजना
  39. वनबंधु कल्याण योजना
  40. सागरमाला योजना
  41. नमामि गंगे योजना
  42. गंगा ग्राम योजना
  43. Gold Monetisation Scheme in Hindi
  44. अंत्योदय अन्न योजना
  45. विद्यांजली योजना
  46. राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम
  47. Right to Light Scheme हिन्दी मे
  48. प्रधानमंत्री ग्राम परिवहन योजना
  49. मनरेगा योजना (MGNREGA)
  50. राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान
  51. परिवार सहाय योजना (NFBS)
  52. सीमा दर्शन
  53. गरीब कल्याण योजना
  54. नई रोशनी योजना
  55. एक भारत श्रेष्ठ भारत
  56. राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान (RMSA)
  57. ऊर्जा गंगा प्रोजेक्ट

2 comments

    1. sir आप अपने गाँव, जिला और राज्य का नाम भेजे।
      धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *