School Nursery Yojana in Hindi

School Nursery Yojana In Hindi

School Nursery Yojana की शुरुआत केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर ध्वारा की गई थी। School Nursery Yojana 2018 का उद्देश्य छात्रो को पोधों को तैयार करने के काम के माध्यम से प्रकृति के करीब लाना। School Nursery Yojana PDF के तहत सरकार ध्वारा प्रकृति के जतन के लिए एक प्रयास किया जाएगा। School Nursery Yojana Launch Date 10 अगस्त 2015 को यह योजना शुरू की गई थी। इस योजना से जुडने के लिए आपको यहा पर School Nursery Yojana Application Form भी दिया गया है।

School Nursery Yojana Details

  • इस योजना को 5 अगस्त 2015 को शुरू किया गया था।
  • योजना के लिए कक्षा 6 से 9 तक के सारे छात्रो को चुना जाएगा।
  • योजना के तहत उन्हे पोधे तैयार करने होगे।
  • पोधों को उगाने की सारी प्रक्रिया कुदरती रूप से की जाएगी।
  • हर स्कूल से हर साल 1000 पोधे तैयार करने का लक्ष्य रखा जाएगा।
  • तैयार पोधों को साल के अंत मे छात्रो को परिणाम के साथ दिया जाएगा।
  • इस योजना के तहत सरकार ध्वारा हर स्कूल को वाटिका (Nursery) तैयार करने हेतु पेसो की सहाय की जाएगी।
  • प्रत्येक स्कूल को वाटिका ( Nursery ) तैयार करने के लिए योजना के जुडने के पहेले साल 25 हजार रुपयो की सहता की जाएगी।
  • हर स्कूल के पास वाटिका ( Nursery ) बनाने के लिए कम से कम 100 वर्ग मीटर जगह होनी चाहिए।
  • इस योजना से जुडने के बाद हर स्कूल को बनाई गई वाटिका (Nursery) की देखभाल करनी होगी ओर वह इस योजना से 5 साल तक जुड़े रहेगे।
  • दो साल के लिये सरकार ध्वारा इस योजना के अंतर्गत 10 हजार रुपयो की सहाय की जाएगी।
  • इस योजना के अंतर्गत स्कूल ध्वारा छात्रो को पोधों के जतन ओर उनका महत्व समजाना होगा।

School Nursery Yojana Objectives – उद्देश्य

  • इस योजना के तहत छात्रो को पोधों की जानकारी प्रदान करे ओर उन्हे पर्यावरण के साथ संवेदनीक रूप से जोड़े।
  • खास तोर पर शहरी छात्रो को मिट्टी से जुडने का मोका दे ओर उन्हे खाद, बीज आदि की पहचान करवाई जाए।
  • छात्रो को बढ़ते पोधों की प्राकृतिक प्रक्रिया को समजाना ओर उनका जतन करना सिखाना।
  • छात्रो को अपने अड़ोश-पड़ोश मे देखने को मिलते औषधीय पोधे, पेड़, झाड़ी, गमले के पोधे आदि को बढ़ता देखना ओर उनका जतन करने को कहेना।
  • छात्रो को पेड़ो ओर पोधों के विभिन्न लाभ के बारे मे जानना ओर सीखना।
  • छात्रो को अपने पड़ोश के पेड़ की जानकारी रखकर उसके बीज को नर्सरी के उपयोग के लिए इकट्ठा करना।
  • छात्रो को उनके ध्वारा उगाये गए पोधों का उपयोग करने के लिए ओर जतन करने के लिए प्रोत्साहित करना

School Nursery Yojana Salient Features – मुख्य विशेषताए

  • यह योजना प्रायोगिक आधार पर 5 साल के लिए लागू की गई है।
  • इसमे कक्षा 6 से 9 तक के छात्र सामील होगे।
  • वाटिका (Nursery) के निर्माण के लिए स्कूल के पास 100 वर्ग मिटर जगह होनी चाहिए।
  • स्कूल ध्वारा हर साल वाटिका (Nursery) मे 1000 पोधे उगाने होगे।
  • प्रत्येक छात्र को प्रारंभ मे कम से कम एक पोधे का जतन करना सीखाना ओर स्कूल के अंत मे पोधे को लगाकर उसकी देखभाल करने के लिए प्रोत्साहित करना।
  • पहेले वर्ष के लिए 1000 स्कूलो का चयन किया जाएगा।
  • वाटिका (Nursery) के विकास के लिए हर स्कूल को 25 हजार रुपए प्रदान किए जाएगे।
  • अच्छे प्रदर्शन के बाद उन्हे दो साल तक 10 हजार रुपए दिये जाएगे।
  • प्रत्येक वर्ष अलग-अलग स्कूलो का चयन किया जाएगा।
  • चयन की गई स्कूलो ध्वारा पोधों का प्रारूप के अनुसार record बनाया जाना चाहिए।

School Nursery Yojana Eligibility – पात्रता

  • कक्षा 6 से 9 के सभी छात्र।
  • स्कूल के पास वाटिका (Nursery) के लिए कम से कम 100 वर्ग मिटर जगह होनी चाहिए।
  • जो पहेले से ऐसे कार्यो से जुड़े है वैसी स्कूलो को इस योजना के लिए प्राथमिकता दी जाएगी।
  • स्कूल के प्रिन्सिपल को वाटिका (Nursery) को 5 साल बनाए रखने के लिए सहमत होना पड़ेगा।
  • पोधों की सिंचाई के लिए स्कूलो के पास बारिश के पानी का संग्रह अथवा गंदे जल का फिर से उपयोग करना होगा।
  • पहेले यह योजना हर जिले मे एक स्कूल मे लागू की जाएगी।
  • बाद मे हर जिले की लागू की गई स्कूल जिले की दूसरी स्कूलो का मार्गदर्शन करेगी।

School Nursery Yojana Procedure – आवेदन की प्रक्रिया

  • इस योजना से जुडने के लिए पहेले स्कूल ध्वारा वन विभाग अधिकारी (Divisional Forest Officer-DFO) को आवेदन करना होगा।
  • प्रत्येक स्कूल को कम से कम 1000 पोधे तैयार करने के लिए सहमत होना पड़ेगा।
  • DFO ध्वारा आए हुये प्रस्ताव को State Compensatory Afforestation Fund Management and Planning Authority (CAMPA) को भेजा जाएगा।
  • State CAMPA आए हुये प्रस्ताव को अनुदान करने के लिए CAMPA steering Committee को भेजेगी।
  • चुने गए स्कूलो ध्वारा एक नमूने के रूप मे वाटिका (Nursery) तैयार की जाएगी, इस वाटिका (Nursery) के तैयार करने मे अलग-अलग प्रसंगो की तस्वीरों का प्रिन्सिपल ध्वारा अपने वार्षिक अहेवाल (Report) मे उल्लेख होना चाहिए।
  • DFO ध्वारा विशेषज्ञ की टीम तैयार की जाएगी जिनका संपर्क स्कूलो ध्वारा पोधों की जानकारी के लिए किया जा सके।

Activities under School Nursery Yojana – क्रियाए

  • कक्षा 6 से 9 के सभी छात्र वाटिका (nursery) के कार्यो के लिए पात्र होगे। इस योजना के तहत जीवविज्ञान के वर्गो के लिए नियमित रूप से व्यवहारिक अभ्यास ओर अन्य छात्रो के लिए इसके लिए एक अलग से पाठ्यक्रम रखा जाएगा।
  • छात्रों को पेड़ों और अन्य पौधों की मौलिक विशेषताओं और पत्तियों, छाल, शाखाओं के पैटर्न, फूलों, फूलों के रंग और युवा पत्तियों – फलों जैसे फलों की विशेषताओं का निरीक्षण करने के लिए उपयुक्त समय पर पास के Park / उद्यान / कॉलोनी Park के लिए स्थानीय भ्रमण में ले जाया जाएगा।
  • पोधों ओर पेड़ो की पहचान कराना
  • छात्रों को हर्बेरियम (सुखी पत्तियों का संग्रह) तैयार करने, उनके अवलोकनों को रिकॉर्ड करने, फल, बीज आदि एकत्र करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।
  • बीज सुखाना, पोधों के प्रसार के लिए पोधों को छांटना (Cutting), कलम बांधने का काम (Grafting) सीखाना
  • गमले तैयार कने के लिए मिट्टी, रेत ओर खाद या कोको-पीट का मिश्रण अपनाए।
  • तैयार किया हुआ मिश्रण मिट्टी के गमले या polybags मे भरे।
  • बीज बोना सीखाना, युवा पोधों की देखभाल करना जेसे की पानी देना, खरपतवार, प्रत्यारोपण करना।
  • स्थानीय रूप से उचित प्रजातियों के पोधों को प्राथमिकता दी जाएगी।
  • स्कूलों और पड़ोसी इलाकों में अवलोकनों की रिकॉर्डिंग और वृक्षो की गणना करना।
  • छात्रों को उचित स्थान (स्कूल / पड़ोस / आवासीय क्षेत्रों) पर पौधे लगाने के लिए प्रोत्साहित करना ओर उनकी देखभाल करना सिखाना होगा।
  • अच्छी देखभाल के लिए पुरस्कार दिया जाएगा।

School Nursery Yojana Budgetary support – बजट

  • प्रयोगिक तोर पर योजना का समय 5 साल का होगा।
  • पहेले साल इस योजना के लिए 2.5 करोड़ रुपए दिये जाएगे।
  • पहेले दो साल के लिए वाटिका (nursery) की देखभाल के लिए 1 करोड़ रुपए दिये जाएगे।
  • इस योजना के तहत वाटिका (nursery) के निर्माण के लिए पहेले साल स्कूल को 25 हजार रुपए दिये जाएगे।
  • अगले दो साल के लिए स्कूल ध्वारा 1000 पोधे तैयार करने के लिए 10 हजार रुपए दिये जाएगे।
  • इसके बाद स्कूल को खुद ही इस योजना को अपने खर्चे पर शुरू रखना होगा।
  • योजना के तहत दिये गया अनुदान वाटिका (nursery) के निर्माण के बिस्तरों, पानी की व्यवस्था, पाइप, मिट्टी, खाद, मिट्टी के बर्तन, पॉली बैग और अन्य आवश्यक साधनो के प्रारंभिक व्यय को शामिल करेगा।
  • SFD स्कूलों का मार्गदर्शन करेंगे और इस योजना के तहत चुने गए स्कूलों को सभी तकनीकी सहायता प्रदान करेंगे।

School Nursery Yojana Application FORM pdf

School Nursery Yojana PDF File

प्यारे पाठको School Nursery Yojana In Hindi मे आपको इस योजना की पूर्णतः जानकारी दी गई है। साथ ही इस योजना के लिए आवेदन करने की विधि ओर उसका आवेदन Form भी दिया गया है। हमे इस योजना को सफल बनाना चाहिए ओर हमारे बच्चो को प्रकृति से जोड़ना चाहिए।

हमे हमारे बच्चो को उनके अच्छे भविष्य के लिए उनके मन मे प्रकृति के लिए प्रेम ओर सदभावना जगानी चाहिए। हमे हमारे बच्चो को पेड़-पोधों का महत्व समाजना होगा जिससे आने वाला कल बहेतर हो। इस योजना के बारे मे या अन्य किसी ओर सरकारी योजना की जानकारी के लिए आप हमे COMMENT के माध्यम से संपर्क कर सकते है।

अन्य योजनाए पढ़ने के लिए योजना के नाम पर Click करे

सुकन्या समृद्धि योजना

मातृ वंदना योजना

अमृत योजना

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ

गोबर धन योजना

मुद्रा लोन योजना

राष्ट्रीय पोषण मिशन

फसल बीमा योजना

आयुष्मान भारत योजना

अमृतम योजना

उज्ज्वला योजना

वनबंधु कल्याण योजना

भाग्य लक्ष्मी योजना

लाड़ली लक्ष्मी योजना

सौर सुजला योजना

प्रधानमंत्री युवा योजना

ग्राम ज्योति योजना

कौशल विकास योजना

जन-धन योजना

सांसद आदर्श ग्राम योजना

खनिज क्षेत्र कल्याण योजना

अटल पेंशन योजना

जन औषधि योजना

रोजगार प्रोत्साहन योजना

जीवन ज्योति बीमा योजना

आवास योजना

कृषि सिंचाई योजना

मेक इन इंडिया

ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान

सीखो ओर कमाओ योजना

National Aapprenticeship Promotion Scheme

स्टैंड अप इंडिया

वय वंदना योजना

स्वच्छ भारत अभियान

स्मार्ट सिटि योजना

पढ़ो परदेश योजना

नई मंज़िल योजना

पहल योजना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *